Trending Topics

ये हैं भारत के सबसे बुद्धिमान और चालाक माने जाने वाले चाणक्य के 5 बड़े सत्य

5 shocking facts and secrets about acharya chanakya

आचार्य चाणक्य प्राचीन काल के सबसे बुद्धिमान और चतुर शिक्षक, दार्शनिक, अर्थशास्त्री, न्यायिक और प्राचीन भारत के शाही सलाहकार थे। चाणक्य को विष्णुगुप्त और कौटिल्य के नाम से जाना जाता था जो आज भी प्रचलित है। उन्हें भारत में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र के महारथी थी। आचार्य चाणक्य अर्थशास्त्र, नैतिकता, दर्शन और राजनीति के क्षेत्र में उनके पास महा ज्ञान था।

हालाँकि उनकी शिक्षा और बातें करीब 2000 साल पुरानी हैं लेकिन आज भी वर्तमान परिस्थितियों के लिए प्रासंगिक हैं और बहुत से लोग अपने जीवन में अपनी शिक्षाओं का पालन कर रहे हैं। लेकिन उनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं यानी उनके जीवन के बारे में और उनके कुछ तथ्य के बारे में जो हम आपको बताने जा रहे हैं जिनके बारे में आप भी नहीं जानते होंगे। आइये तो बता देते हैं उनके जींवन के कुछ राज़ जो शायद आपको भी चौंका देंगे। 

सबसे बड़ा साम्राज्य

चाणक्य वह व्यक्ति था जो चंद्रगुप्त मौर्य की मदद से पहला सबसे बड़ा और सबसे बड़ा भारतीय साम्राज्य बनाया। चंद्रगुप्त मौर्य उस समय केवल 19 वर्ष के थे जब वह भारत के सम्राट बने और भारत का सबसे बड़ा साम्राज्य स्थापित कर दिया। राजनीति और दर्शन पर चाणक्य की कमान ने चंद्रगुप्त मौर्य को भारत के महानतम राजाओं में से एक बनाने में मदद की। और कम उम्र में ही चन्द्रगुप्त राजा बन गए और चाणक्य ने अपने भारत को बचा लिया। 

चालाक और बुद्धिमान

चाणक्य चालाकी और महान बुद्धि के धनी थे। उस समय में चाणक्य को ही सबसे ज्यादा बुद्धिमान समझा जाता था। उनके पास हर समस्या का और हर परिस्थिति का सामना करने के लिए सैकड़ों रास्ते हुआ करते थे। वह एक सामान्य व्यक्ति की तुलना में आगे सोच सकते हैं उनकी खुफिया बात यह थी कि वे भारत का पहला सबसे बड़ा राज्य बना सकते थे। उनके पास समुद्र शास्त्र पर एक स्वामित्व था जिसके द्वारा वे निर्णय ले सकते थे और एक व्यक्ति के केवल चेहरे के भावों को देखकर ये बता सकते थे कि वो क्या सोच रहा है। 

 

महिलाओं के लिए सोच

चाणक्य की सोच महिलाओं के लिए काफी अलग थी। इस पर चाणक्य ने कहा था कि, महिलाओं पर भरोसा नहीं किया जा सकता है क्योकि वो कम नैतिक चरित्र और झूठ से निहित हैं। उनके अनुसार एक अच्छी महिला ऐसी है जो पवित्र है, घर के काम में विशेषज्ञ और अपने पति के लिए सच्ची और वफादार है। ऐसी महिलाएं सभी का ध्यान खींचती हैं लेकिन वो ये नहीं कहते कि हर महिला दोषपूर्ण प्रकृति की है और ना ही ये कहते हैं कि पुरुष पूरी तरह निर्दोष हैं। 

चतुर और चालक राजनितज्ञ

एक प्रसिद्ध विद्वान और अर्थशास्त्री होने के अलावा, चाणक्य एक चतुर और कुशल राजनीतिज्ञ थे। उनकी किताब चाणक्य के चेंट (‘Chanakya’s Chant’) के अनुसार, जो कि अश्विन सांगी ने लिखी थी। इसमें लिखा था चाणक्य ने सिकंदर महान के हमले के खिलाफ भारत के राज्यों को एकजुट किया। उन्होंने युवा लड़कियों की एक सेना को भी विषकन्या के नाम से जाना, जिसे उन्होंने अपने शत्रुओं से बहुत प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया और उन लड़कियों को उनके बचपन से उचित और घातक प्रशिक्षण दिया गया। विषकन्याओं को उनके भोजन के साथ धीमा ज़हर भी दिया जाता था ताकि उनके शरीर और प्रतिरक्षा प्रणाली जहर के खराब प्रभावों के प्रति प्रतिरोधी हो सकें और हर मुश्किल परिस्थिति में जीवित रह सके। चाणक्य ने उन्हें अपने दुश्मनों को चूमने और मारने के लिए इस्तेमाल किया क्योंकि इन लड़कियों का चुंबन बहुत ही विषम था।

You may be also interested

1