Trending Topics

गणेश चतुर्थी: क्यों गणपति बप्पा को पसंद है मोदक?

WHY SHREE GANESH LOVE MODAK

आने वाले 10 सितंबर को गणेश उत्सव मनाया जाने वाला है. आप सभी जानते ही होंगे के गणेश उत्सव भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से आरम्भ होता है और अनंत चतुर्दशी तक चलता है. ऐसे में इन दिनों में लोग भगवान गणेश की स्थापना करने के बाद उनकी सेवा करते हैं. इस दौरान लोग उन्हें मेवा, मिष्ठान और उनके पसंदीदा भोग लगाते हैं. आप सभी जानते ही होंगे के श्री गणेश के सबसे अधिक प्रिय भोग में मोदक शामिल है लेकिन क्या आप जानते हैं उन्हें मोदक क्यों पसंद है? आज हम आपको बताते हैं इस सवाल का जवाब.

कथा

एक बार गणपति भगवान शिव और माता पार्वती के साथ अनुसुइया के घर गए. उस समय गणपति, भगवान शिव और माता पार्वती तीनों को काफी भूख लगी थी. माता अनुसुइया ने सोचा कि पहले गणेश जी को भोजन करा देती हूं, इसके बाद महादेव और माता पार्वती को खिला दूंगी. माता अनुसुइया ने गणपति को भोजन कराना शुरू किया तो वो लगातार काफी देर तक खाते ही रहे. लेकिन उनकी भूख शांत होने का नाम नहीं ले रही थी.

तब माता अनुसुइया ने सोचा कि कुछ मीठा खिलाने से शायद उनकी भूख शांत हो जाए. ऐसे में माता अनुसुइया गणपति के लिए मिठाई का एक टुकड़ा लेकर आईं. उसे खाते ही गणेश जी का पेट भर गया और उन्होंने जोर से डकार ली. उसी समय भोलेनाथ ने भी जोर जोर से 21 बार डकार ली और कहा उनका पेट भर गया है. बाद में देवी पार्वती ने अनुसृइया से उस मिठाई का नाम पूछा. तो माता अनुसुइया ने बताया कि इसे मोदक कहा जाता है. तब से मोदक को गणपति का प्रिय व्यं​जन माना जाने लगा और भगवान गणेश को मोदक चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई. मान्यता है कि गणेश जी को यदि 21 मोदक चढ़ाए जाएं तो उनके साथ सभी देवताओं का पेट भर जाता है. इससे गणपति और अन्य सभी देवी देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

इस हॉट मॉडल ने लूटी फैंस की नींदे

आँखों पर यकीन नहीं दिलाने वाली तस्वीरें

VIDEO: छत में दिखा लटकता हुआ सिर, देखने वालों के उड़े होश

 

You may be also interested

1