Trending Topics

आखिर क्यों 25 दिसंबर को मनाते हैं क्रिसमस

merry christmas

हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस का पर्व मनाया जाता है. यह पर्व ईसाईयों के लिए बहुत खास होता है. ऐसे में आजकल सभी घरों में क्रिसमस के त्योहार (Preparations of Christmas) की तैयारी बड़े जोरों शोरों से चल रही है. जी दरअसल अब लोग क्रिसमस और नये साल (New Year 2022) के फेस्टिव मूड में आ चुके हैं. आप सभी जानते ही होंगे क्रिसमस  (Christmas) का नाम सुनते ही सेंटा क्लॉज, ढेर सारे गिफ्ट्स (Christmas Gifts), क्रिसमस ट्री (Christmas Tree) और केक (Christmas Cakes) का ख्याल हम सभी के मन में पहले आता है. लेकिन, क्या आपको पता है कि आखिर पूरी दुनिया में क्रिसमस का त्योहार क्यों मनाया जाता है? आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं.
 

कहा जाता है यूरोप में कुछ गैर ईसाई समुदाय के लोगों ने 25 दिसंबर को सूर्य की दिशा चेंज होने वाला दिन के रूप में सेलिब्रेट करना शुरू किया. वहीं ईसाई मान्यताओं (Christian Community) के अनुसार, क्रिसमस के दिन ही प्रभु यीशु ने धरती पर जन्म लिया था. कहा जाता है इनका जन्म जोसफ और मैरी के घर में हुआ था. वैसे प्रभु यीशु को जन्म के ठीक समय और महीने की सटीक जानकारी नहीं है लेकिन, चौथी शताब्दी में ईसाई चर्चों ने 25 दिसंबर को क्रिसमस डे (Christmas Day) के रूप में मनाने की शुरुआत की. वहीं दूसरी तरफ अमेरिका ने आधिकारिक तौर पर 1870 में क्रिसमस के दिन हॉलिडे की शुरुआत की. इसी के बाद से ही दुनियाभर के ईसाई इस खास दिन को प्रभु यीशु के जन्मदिन के रूप में सेलिब्रेट करते हैं.

आप सभी को बता दें कि क्रिसमस का त्योहार भारत समेत पूरी दुनिया में बहुत हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है. जी हाँ और इस दिन सभी ईसाई समुदाय के लोग रात को 12 बजे चर्च में एक साथ मिलकर प्रभु यीशु की जन्मदिन मनाते हैं. जी दरअसल उन सभी का यह मानना है कि भगवान ने धरती के मनुष्यों के पाप को खत्म करने और लोगों की रक्षा के लिए अपने बेटे को धरती पर भेजा था. क्रिसमस के मौके पर लोग सेंटा बनकर सभी को गिफ्ट्स बांटते हैं और घरों में क्रिसमस ट्री (Christmas Tree) सजाते हैं.

सेब के बीजों में होता है खतरनाक जहर, लेकिन फिर भी क्यों नहीं होती इंसान की मौत?

आखिर क्यों लगता है सर्दी में किसी को छूने से करेंट

आखिर क्यों ठंड में हमारे मुंह से निकलती है भाप?

 

1