Trending Topics

इस नदी में पाया जाता है सोना, अब तक नहीं सुलझा रहस्य

mystery of Subarnarekha River

भारत का झारखंड राज्य अपनी आदिवासी संस्कृति और खनिज संपदा के लिए मशहूर है. अगर आप यहां गए होंगे तो आपने यहाँ दूर-दूर तक फैले घने वन देखे होंगे. यह वन यहां की जनजातियों के लिए जीवनदायिनी समान हैं. आपको बता दें कि यहाँ एक ऐसी नदी भी है जो वर्षों से सोना उगलने का काम कर रही है. जी हाँ, कहा जाता है यह नदी झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओड़िशा में बहती है और इसका उद्गम झारखंड के रांची शहर से लगभग 16 किमी दूर है. 

आपको जानने के बाद हैरानी होगी कि यह नदी रहस्यमयी तरीके से सोना उगलने का काम करती है. इसी के चलते इसका नाम स्वर्णरेखा पड़ा. आपको बता दें कि यहां कई वर्षों से सोना निकाला जा रहा है. जी दरअसल यहाँ नदी से निकलने वाले रेत में सोने के कण पाए जाते हैं और इस वजह से यहां की आसपास की जनजातीयां यहां सोना निकालने का काम करती है.

हालाँकि इस ख़ास बात के लिए यह नदी भूवैज्ञानिकों के लिए शोध का विषय रही है. यहां अब तक कई रिसर्च हो चुकी है और रिसर्च कर चुके कई भूवैज्ञानिकों का मानना है कि यह नदी चट्टानों से होकर आगे बढ़ती है और इस वजह से इसमें सोने के कण आ जाते हैं.

वैसे कई लोग मानते हैं कि इस नदी की सहायक नदी ‘करकरी’ है जिससे इसमें सोने के कण आते हैं. जी दरअसल ठीक ऐसे ही सोने के कण ‘करकरी’ नदी में भी पाए जाते हैं. हालाँकि आज तक जवाब नहीं मिल पाया कि स्वर्णरेखा के साथ-साथ करकरी नदी में भी सोने के कण कहां से आते हैं?  कहा जाता है इस नदी से एक इंसान एक महीने में लगभग 60 से 80 सोने के कण निकालने में सफ़ल हो जाता है.

अगर ज़हरीला सांप काट ले, तो तुरंत क्या करें?

आखिर कैसे? आकाश से गिरे पत्थरों को बेचकर ये व्यापारी कमाता है करोड़ों रुपए

यहाँ मिला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा

 

1