Trending Topics

पेट में चली जाए च्युइंग गम तो क्या होता है?

what happens when swallow chewing gum

हम सभी ने बचपन में च्युइंग गम खाई है. उस समय कहा जाता था कि अगर उसे निगल लिया तो वो 7 साल पेट के अंदर ही चिपका रहता है. इसी डर के कारण न जाने कितने बच्चों ने च्युइंग गम खाना बंद ही कर दिया. वहीँ कई लोग ऐसे हैं जो बहुत ज़्यादा संभल कर च्युइंग गम खाते थे. वैसे आज हम आपको बताने जा रहे हैं बचपन के 'तथ्य' के पीछे की सच्चाई क्या है?

Healthline द्वारा लिखे गए एक लेख को मानें तो च्युइंग गम संभल कर चबाना चाहिये लेकिन अगर ग़लती से निगल ली है तो कोई परेशानी की बात नहीं है. जी दरअसल च्युइंग गम पॉटी के साथ लगभग 40 घंटे बाद निकल कर बाहर आ जाती है. वैसे ही जैसे बाक़ी खाने-पीने की चीज़ें. वहीँ अगर आपने कम समय में काफ़ी सारे च्युइंग गम निगल लिये हैं तो इससे आपकी इंटेस्टाइन में ब्लॉकेज का सामना करना पड़ सकता है. जी दरअसल च्युइंग गम निगल लेने के बाद डॉक्टर के पास जाना ज़रूरी नहीं है क्योंकि ये डाइजेस्टिव ट्रैक्ट से बाहर निकल जाता है.

वहीँ अगर किसी ने बहुत सारे च्युइंग गम और अन्य पदार्थ निगल लिये हैं जिन्हें पचाया नहीं जा सकता तो उससे ब्लॉकेज हो सकता है. अगर ऐसा होता है तो सर्जरी करके चीज़ों को निकालना पड़ता है. कहा जाता है द्वितीय विश्व युद्ध से पहले तक, मध्य अमेरिका में पाये जाने वाले Sapodilla पेड़ के रस में फ़्लेवर्स डालकर बनाया जाता था, च्युइंग गम. अब आज के समय में गम बेस से बनाया जाता है च्युइंग गम. आपको बता दें कि गम बेस, Polymers, Plasticizers और Resins का मिश्रण है. इसे Food-Grade Softeners, Preservatives, Sweeteners, रंग, फ़्लेवर्स के साथ मिक्स किया जाता है. गम में पाउडर्ड या Hard Polyol Coating होती है.

यहाँ मिलते है दुनिया के सबसे महंगे खरबूजे

आखिर क्यों दिखाते हैं V साइन, क्या आप जानते हैं कारण?

सोते समय अपनी एक आँख खुली रखते हैं ये जानवर, जानिए क्यों?

 

1