Trending Topics

इस गाँव में सिटी की धुन पर रखे गए हैं लोगों के नाम

unique whistling village in meghalaya kongthong

दुनियाभर में कई गाँव हैं जो अपने-अपने अनोखे कारनामों के लिए प्रसिद्ध है. ऐसे में आज हम एक ऐसे गाँव के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानने के बाद आपको हैरानी होगी. जी दरअसल हम बात कर रहे हैं पूर्वोत्तर राज्य मेघालय में स्थित गाँव कांगथांग की. आपको बता दें कि दुनिया इस गाँव को सीटी बजाने वाले गाँव के नाम से जानती हैं. जी दरअसल इस गाँव का नाम कई लोग व्हिसलिंग विलेज भी जानते है. आपको बता दें कि इस राज्य के खासी जनजाति के लोग हैं, जो आम भाषा की जगह सिटी का प्रयोग करते हैं. 

वैसे यह कोई नई परंपरा नहीं है बल्कि यह बहुत ही पुरानी परंपरा है जो लंबे समय से चली आ रही है. आपको यह जानने के बाद हैरानी होगी कि यहां हर व्यक्ति के दो नाम होते हैं इनमे एक सामान्य नाम होता है और दूसरा व्हिसलिंग नाम यानी कि सिटी की किसी धुन पर रखा गया नाम. ऐसे में यहां पर रहने वाले सभी लोगों के व्हिसलिंग नेम अलग-अलग होते हैं और इसी धुन से पूरा गांव एक-दूसरे को बुलाता है. यहाँ धुन पहचानने की कला माता-पिता अपने बच्चों को बचपन से ही देना शुरू कर देते हैं. इसके पीछे भी एक कहानी है.

उस कहानी के अनुसार गांव का कभी कोई आदमी दुश्मनों से बचते हुए पेड़ पर चढ़ गया था. उस समय मदद के लिए उसने अपने दोस्तों को बुलाने के लिए जंगली आवाज का इस्तेमाल किया, ताकि दुश्मन ना पहचान सकें. इसी घटना के बाद गांव में सीटी बजाकर बात करने की परंपरा शुरू हुई.

Google पर भूलकर भी न सर्च करें यह चीजें

अगर ज़हरीला सांप काट ले, तो तुरंत क्या करें?

आखिर कैसे? आकाश से गिरे पत्थरों को बेचकर ये व्यापारी कमाता है करोड़ों रुपए

 

You may be also interested

1