Trending Topics

आज है छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती, जरूर जानिए यह कहानी

Chhatrapati Shivaji Maharaj Jayanti 2020 Know special story

आज भारत के वीर शासकों में से एक छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती है जिसे सभी मना रहे हैं. आप सभी को बता दें कि मराठा साम्राज्य की नींव रखने वाले शिवाजी महाराज की गिनती दुनिया के सबसे श्रेष्ठ राजाओं में होती है और उनकी कहानियां आज भी हमें प्रेरणा देती हैं. ऐसे में आज हम आपको उनसे जुड़ी एक ऐसी ही गौरव गाथा बताने जा रहे हैं जो सभी को पता होना चाहिए. आइए बताते हैं.

जी दरअसल यह बात उन दिनों की है जब शिवाजी महाराज की सेना ने मुग़लों की नाक में दम कर रखा था. कहा जाता है साल 1650 के आस-पास उन्होंने मुग़लों से कई युद्ध किए जिनमें कुछ में मुग़लों को हार का सामना करना पड़ा, तो कई का नतीजा नहीं निकला. वहीं शिवाजी के बढ़ते प्रताप से जलने लगा था बीजापुर का एक शासक जिसका नाम था आदिलशाह. उसे अपनी गद्दी छिन जाने का डर था. इसी भय के चलते उसने शिवाजी के पिता शाहजी को गिरफ़्तार कर लिया. वहीं इससे पहले वो शिवाजी को बंदी बनाने की कोशिश कर चुका था जिसमें वो नाक़ामयाब रहा था. ऐसे में अपनी हार से खिसियाए आदिलशाह ने उन्हें छोड़ उनके पिता पर अपना ध्यान क्रेंदित कर लिया. वहीं उसने मौक़ा मिलते ही शाहजी को बंदी बना लिया, इससे शिवाजी को बहुत गुस्सा आया. कहा जाता है शिवाजी ने एक रणनीति बनाई और उसके किले पर छापामारी कर अपने पिता को कैद से आज़ाद करा लिया. साथ में पुरंदर और जावेली के किलों पर फतेह हासिल कर उन पर कब्ज़ा कर लिया. उसके बाद मुग़ल बादशाह औरंगजेब ने जयसिंह और दिलीप ख़ान को एक संधि करने का न्यौता लेकर भेजा और इसे पुरंदर संधि के नाम से जाना जाता है.

कहते हैं इसी के अनुसार, शिवाजी को 24 किले मुग़लों को सौंपने थे और दक्षिण में पैर पसारने के बाद शिवाजी महाराज से औरंगज़ेब उखड़ा हुआ था. वहीं इसका बदला लेने के लिए शिवाजी महाराज के इलाके में लूट-पाट शुरू कर दी. इस ख़ून-खराबे को रोकने के लिए ही शिवाजी महाराज इस संधि के लिए राज़ी हुए और उन्हें 24 किले सौंप दिए. कहते हैं कि वहां भी औरंगजेब ने शिवाजी के साथ विश्वासघात किया और शिवाजी के संधि पर हस्ताक्षर करने के बाद औरंगज़ेब ने उन्हें गिरफ़्तार कर लिया. वहीं आगरा की जिस जेल में उन्हें रखा गया था वहां पर हज़ारों सैनिकों का पहरा था लेकिन शिवाजी अपने साहस और बुद्धि के दम पर उसे चकमा देकर वहां से फरार होने में कामयाब हो गए. वहीं इसके बाद शिवाजी ने अपनी सेना के पराक्रम के दम पर फिर से औरंगज़ेब से अपने 24 किले जीत लिए और फिर उन्हें छत्रपति की उपाधि मिली थी.

आप जानते हैं कि आखिर क्यों जगमगाते हैं जुगनू

21 फरवरी को है महाशिवरात्रि, जानिए भोले और पार्वती के विवाह की कहानी

अच्छा भाई तो इस वजह से ऑफिस में खाने के बाद आने लगती है नींद

 

Recent Stories

1