Trending Topics

आखिर क्यों नहीं लगती ट्रेन की पटरियों पर जंग?

Why do not railway tracks rust away

आप सभी ने ट्रैन में सफर तो किया ही होगा. वैसे ट्रेन में सफर करना सभी को पसंद होता है और ट्रेन में खिड़की वाली सीट भी हम सभी को प्यारी लगती है. इस सीट पर बैठने के बाद बाहर देखने का मजा ही कुछ और है. वैसे आप सभी ने कभी पटरियों के बारे में सोचा है जिस पर ट्रेन चलती है. हम जानते हैं कि लोहे में जंग लग जाती है लेकिन रेल की पटरियों में कभी जंग क्यों नहीं लगती? हम देखते हैं और जानते हैं कि पटरियां हर मौसम की मार झेलती हैं लेकिन फिर भी वह चमकती ही रहती हैं. आखिर इसके पीछे का क्या राज? अब आज हम इसी राज से पर्दा उठाने जा रहे हैं.
 

जी दरसल एक रिपोर्ट को माने तो रेल की पटरियों को बनाने के लिए एक खास किस्म की स्टील का इस्तेमाल होता है. कहा जाता है स्टील में मेंगलॉय को मिलाकर ट्रेन की पटरियों को तैयार किया जाता है. आपको बता दें कि स्टील और मेंगलॉय के मिक्स को मैंगनीज स्टील कहा जाता है और इसमें 12 फीसदी मैंगनीज और एक प्रतिशत कार्बन मिल होता है.

ऐसा भी माना जाता है कि स्टील में मौजूद मिश्रण की वजह से ही ट्रेन पटरियों का ऑक्सीकरण की रफ्तार काफी धीमी होती है. इसी के चलते पटरियों में जंग नहीं लगती हैं. वहीँ अगर ट्रेन की ट्रैक को आम लोहे से बनाया जाए तो हवा की नमी के कारण उसमें जंग लग जाएगी और इसके चलते पटरियों को जल्दी-जल्दी बदलना पड़ेगा और खर्च भी बढ़ जाएगा. इसके अलावा कई लोगों का यह भी मानना है कि पहियों के घर्षण बल के कारण पटरियों में जंग नहीं लगती है, पर ऐसा नहीं है. बल्कि पीछे सिर्फ स्टील और मेंगलॉय के मिक्स का जलवा है.

क्या आपको पता है इस इमोजी का सली मतलब

आखिर क्यों जन्मदिन पर बुझाई जाती है मोमबत्ती?

आखिर क्यों बनाई जाती है ऐसी ब्लेड?

 

1