Trending Topics

3 रंग के होते हैं भारतीय पासपोर्ट, जानिए मतलब

How colours matter in Indian passports

विदेश यात्रा करने वाले हर नागरिक के पास अपने देश वैध पासपोर्ट होना बेहद ज़रूरी है. आप सभी जानते ही होंगे कि बिना पासपोर्ट के कोई भी देश के बाहर नहीं जा सकता हैं. वहीं कोई दूसरा देश भी पासपोर्ट के बिना आपको आने नहीं दगा. वैसे पासपोर्ट तीन रंग के होते हैं और आज हम उनके इन रंगों के होने के पीछे का लॉजिक बताएंगे. आइए जानते हैं.

सबसे पहले जानते हैं नीला रंग- यह पासपोर्ट भारत के आम नागरिकों के लिए बनाया जाता है. जी दरअसल नीला रंग भारत को रिप्रज़ेंट करता है और इसे ऑफ़िशियल और डिप्लोमैट्स से अलग रखने के लिए सरकार ने ये अंतर दिया है. इससे कस्टम अधिकारियों व विदेश में पासपोर्ट चेक करने वालों को आइडेंटिफ़िकेशन में समस्या नहीं होती. आपको बता दें कि नीले रंग के इस पासपोर्ट में जारी किए गए शख़्स का नाम, डेट ऑफ़ बर्थ, बर्थप्लेस, फ़ोटो, सिग्नेचर आदि का ज़िक्र होता है.

सफ़ेद

सफ़ेद रंग का पासपोर्ट भारतीय गर्वनमेंट ऑफ़िशियल को रिप्रज़ेंट करता है. यह उनके पास होता है जो सरकारी कामकाज से विदेश यात्रा पर जाते हैं. यह पासपोर्ट उस ऑफ़िशियल की आइडेंटिटी के लिए होता है और इसके आवेदक को ये सफ़ेद पासपोर्ट पाने के लिए एक अलग से ऐप्लीकेशन देनी पड़ती है. उस एप्लिकेशन में बताना होता है कि आख़िर उसे इस तरह के पासपोर्ट की ज़रुरत क्यों है? 

मरून

भारतीय डिप्लोमैट्स और सीनियर गर्वनमेंट ऑफ़िशियल्स (IAS, IPS रैंक के अधिकारियों) को मरून रंग का पासपोर्ट जारी किया जाता है. इस पासपोर्ट के लिए भी एप्लीकेशन देनी होती है और इस दौरान उन्हें एम्बेसी में ठहरने से लेकर यात्रा के दौरान तक कई सुविधाएं दी जाती हैं. 

आखिर क्यों बनाई जाती है ऐसी ब्लेड?

आखिर क्यों काला कोट पहनते हैं वकील

आखिर क्यों नहीं लगती ट्रेन की पटरियों पर जंग?

 

1