Trending Topics

आखिर क्यों हाथों की नसे होती हैं नीली जबकि खून होता है लाल?

Why do our veins look blue know the science behind it

आप सभी ने हाथों की नसों को तो देखा ही होगा. हम सभी जानते हैं हमारे शरीर में खून लाल रंग का होता है लेकिन शरीर में नजर आने वाली नसे नीली होती है. तो आपने कभी सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों? आखिर क्यों नसे नीले रंग की होती है? अगर सोचा है और आपको इसका जवाब नहीं पता तो हम आपको बताते हैं इसका जवाब.

आप सभी ने अक्सर देखा होगा कि नसों का रंग नीला नजर आता है. सबसे खास उन लोगों पर जो अध‍िक गोरे होते हैं. वहीं उनके अलावा बुजुर्गों में भी है. जी दरअसल विज्ञान कहता है कि नसों का रंग नीला नहीं होता है लेकिन फिर भी हमें ये नीली क्‍यों नजर आती हैं तो इसका जवाब यह है कि यह एक तरह का ऑप्टिकल इम्‍यूजन है, यानी एक भ्रम है. जी हाँ, और ऐसा होने की सही वजह है प्रकाश की किरणें. वहीं अगर हम आसान भाषा में समझें तो प्रकाश में सात रंग होते हैं और इनमें से जो भी रंग किसी भी चीज पर पड़कर परावर्तित होता है, हमें वहीं रंग नजर आता है.  उदाहरण के तौर पर- कोई वस्‍तु प्रकाश की इन सातों किरणों को परावर्तित कर देती है तो वो हमें सफेद नजर आती है. वहीं, जो चीज इन सभी किरणों को अवशोषित कर लेती है वो काली नजर आती है.

जी दरअसल किरणों के परावर्तन का यह सिद्धांत नसों के मामले में भी लागू होता है. आपको बता दें कि नसों में लाल रंग का खून बहता है, ऐसे में उसे लाल ही नजर आना चाहिए, लेकिन ऐसा होता नहीं है. जी दरअसल विज्ञान के मुताबिक, प्रकाश की किरणों में 7 रंग होते हैं इस वजह से जब प्रकाश की किरणें नसों पर पड़ती  है तो लाल रंग की किरणें अवशो‍ष‍ित यानी एब्‍जॉर्ब हो जाती हैं, हालाँकि किरणों में मौजूद नीला रंग अवशोषित नहीं होता, यह परावर्तित हो जाता है. इसलिए इंसान को नसें नीले रंग की नजर आती हैं.

आखिर क्यों दुल्हन विदाई के समय फेंकती है चावल

आखिर क्यों स्विस चीज़ में होते हैं इतने छेद? जानिए लॉजिक

पानी में रहते हुए भी आखिर क्यों नहीं गीले होते बत्तख के पंख?

 

You may be also interested

1