Trending Topics

आखिर क्यों मिर्च लगती है इतनी तीखी

Why is chilli so spicy

हम सभी में से कई लोग हैं जो खाने में तीखा अधिक पसंद करते हैं.  वैसे तीखे में सबसे पहले जिनका नाम आता है वो है लाल और हरी दोनों तरह की मिर्च. इन दोनों ही मिर्चियों का इस्तेमाल किया जाता है खाने में तीखापन लाने के लिए. वैसे तीखापन खाने को स्वादिष्ट बनाता है. वहीँ मिर्च के बारे में बात करें तो वह चाहे लाल हो या हरी ज्यादातर सभी तरह की मिर्च का स्वाद तीखा होता है. 

कभी कभी तो इतना तीखा होता है कि इसे खाने से मुंह में जलन होने लगती है और आंखों में आंसू आ जाते हैं. वहीँ कभी कभी तो बहुत ज्यादा मिर्च खाने के बाद पेट में भी जलन महसूस होने लगती है. इस बीच आप चाहे कितना ही पानी पी लें, लेकिन जलन आसानी से शांत नहीं होती. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि मिर्च इतनी तीखी क्यों होती है और पानी पीने से इसका तीखापन शांत क्यों नहीं होता ? आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं. आइए बताते हैं. 

जी दरअसल मिर्च में कैप्साइसिन नामक कंपाउंड होता है जो इसके तीखेपन के लिए जिम्‍मेदार होता है. कहा जाता है कैप्साइसिन मिर्च के बीच वाले हिस्से में होता है, और यही इसे तीखा और गर्म प्रकृति का बनाता है. इसी के साथ ही इसे फफूंद से बचाता है. कहा जाता है कैप्साइसिन जीभ और त्वचा पर पाई जाने वाली नसों पर अपना असर छोड़ता है. इसी के साथ ही कैप्साइसिन खून में सब्‍सटेंस पी नामक केमिकल रिलीज करता है, जो दिमाग में जलन और गर्मी का सिग्‍नल देता है. इसी के चलते मिर्च खाने के बाद या स्किन पर मिर्च लगने से व्यक्ति को जलन और गर्मी का अहसास होता है.

क्या सच में टूथपेस्ट में मिलाते हैं हड्डियों का चूरा, जानिए सच?

 

1