Trending Topics

रोज़ा होने के बावजूद मुस्लिम युवकों ने किया 60 हिंदुओं का दाह संस्कार

Two muslim boy cremate 60 Hindu COVID victims in Bhopal

कोरोना महामारी ने सभी को बेचैन किया हुआ है. इस संक्रमण के चलते सभी हैरान-परेशान है. ऐसे में इस समय इस महामारी का भारत में भयंकर रूप देखने को मिल रहा है. हर दिन लोग अपनों को दम तोड़ता देख रहे हैं. इस समय हालात ये है कि ज़िंदा को अस्पताल और मुर्दे को श्मशान तक नसीब नहीं हो रहा है. श्मशान के बाहर भीघंटों लाइन लगानी पड़ रही है लेकिन जगह नहीं मिल रही. इस समय कई लोग अपने परिजनों का अंतिम संस्कार तक नहीं कर पा रहे. इन सभी के बीच एक बेहतरीन खबर है जिसे पढ़कर आपको अच्छा लगेगा. 

जी दरअसल मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी ऐसी ही स्थिति है. हालांकि, यहां दानिश सिद्दीकी और सद्दाम कुरैशी जैसे दो युवक मौजूद हैं, जिन्होंने कोरोना के डर को इंसानियत के जज़्बे से मात देने का हौसला दिखाया है. मिली जानकारी के अनुसार भोपाल के रहने वाले दोनों मुस्लिम युवक अपनी जान की परवाह किए बिना ही कोरोना से मरने वाले हिंदू शवों का अंतिम संस्कार कर रहे हैं. कुछ रिपोर्ट्स को माना जाए तो दानिश और सद्दाम ने अब तक कोरोना से मरने वाले 60 हिंदुओं का अंतिम संस्कार किया है. दोनों ने रमजान का रोजा रखा है लेकिन फिर भी दोनों यह काम करते रहे हैं. दोनों बिना जाति, धर्म देखे हर शव का अंतिम संस्कार कर रहे हैं और अब इन दोनों की कहानी सभी को प्रेरणा दे रही है.

यहाँ पैसे और धर्म से नहीं किसी को कोई मतलब

दुनिया की 5 सबसे महंगी बियर

बिहार की वो गुफ़ा जिसके अंदर है करोड़ों का ख़ज़ाना

 

You may be also interested

Recent Stories

1