Trending Topics

फ्रांस को तोहफे में मिली थी ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी’, जानिए खास बातें

The Statue of Liberty FACTS

आप सभी ने ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी’ का नाम तो सुना ही होगा. वैसे इसका नाम सुनते ही लोगों के दिल में अमेरिका का ख्याल आता है, लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी’ को फ्रांस ने अमेरिका को तोहफे में दिया था. जी हाँ, सुनकर आप हैरान हो रहे होंगे लेकिन यह सच है. जी दरअसल चार जुलाई साल 1776 को अमेरिका की स्वतंत्रता की स्मृति में फ्रांसीसियों द्वारा उपहार स्वरूप दिए गए ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी’ का निर्माण फ्रांस और अमेरिका दोनों के संयुक्त प्रयासों से किया गया था. जी दरअसल स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी का निर्माण फ्रांस और अमेरिका दोनों के संयुक्त प्रयासों के द्वारा किया गया था. आपको बता दें कि इसके लिए अमेरिका और फ्रांस की सरकार के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किया गया था. 

इस दौरान दोनों देशों की सरकारों के बीच हुए एक समझौते के तहत अमेरिकी लोगों ने इस मूर्ति का आधार बनाया, जबकि फ्रांसीसी लोगों ने मूर्ति को आकार और स्वरूप दिया. आपको बता दें कि यह तांबे की प्रतिमा है जो अमेरिका के न्यूयार्क शहर के मैनहट्टन में ‘लिबर्टी द्वीप’ पर स्थित है. कहा जाता है इस प्रतिमा को साल 1886 में फ्रांस ने अमेरिका को अपनी मित्रता प्रतीक के रुप में भेंट किया था. जी दरअसल स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी को बनने में लगभग 9 साल से कुछ ज्यादा का समय लगा था. आपको जानकार हैरानी होगी कि STATUE OF LIBERTY बनाने का आइडिया Edouard de Laboulaye ने दिया था जबकि इसे डिज़ाइन Frederic Auguste Bartholdi ने किया था.

केवल यही नहीं बल्कि इसकी रीढ़ की हड्डी का डिजाइन एफिल टॉवर को डिजाइन करने वाले गुस्ताव एफिल ने किया था. जी दरअसल तांबे की यह शानदार प्रतिमा अमेरिका के न्यूयार्क शहर के मैनहट्टन में ‘लिबर्टी द्वीप’ पर स्थित है. आपको यह भी जानकर हैरानी होगी कि स्टेचू ऑफ लिबर्टी मूर्ति के मुकुट पर सात कीले है, जो सातों महाद्वीपों और समुंद्रो को दर्शाती है. 

आखिर क्यों नहीं होती संसद में 420 नंबर की सीट?

पहले के समय में जब पैसे नहीं थे तो काम के बदले सैलरी में क्या मिलता था?

IAS INTERVIEW के वो सवाल जो उलझाकर रख देंगे आपको

 

1