Trending Topics

आखिर क्यों टेढ़े होते हैं केले

Why Are Bananas Curved What You Need to Know

केला एक ऐसा फल है, जो एनर्जी देने के मामले में सबसे आगे है. इसी के साथ ही केला हैप्पी हॉर्मोंस भी बढ़ाने में मदद करता है. वैसे हम सभी जानते हैं कि केले का कोई सीजन भी नहीं होता. जी दरअसल केले का आनंद हर मौसम में मिलता है. लेकिन आप सभी ने कभी सोचा है कि केला टेढ़ा ही क्यों होता है? आखिर केला कभी सीधा क्यों नहीं होता? वैसे अगर सोचा है और आपको जवाब नहीं मिला है तो आज हम आपको बताते हैं कि आखिर ऐसा क्यों होता है?

जी दरअसल, केले के घुमावदार आकार के पीछे के बहुत बड़ा साइंटिफिक रीजन है. कहा जाता है केले का फल जब जन्म लेना शुरू करता है तो वह एक गुच्छे में लगता है. आप सभी ने केले के गुच्छे तो देखे ही होंगे और इसकी हर एक कली एक जैसी होती है. इसमें हर पत्ते के नीचे केले का एक गुच्छा होता है और इसे देसी भाषा में गैल कहा जाता है. आपको बता दें कि इस समय केला नीचे की ओर बढ़ना शुरू करता है (मतलब सीधा बढ़ता है). वहीँ एक साइंटिफिक कॉन्सेप्ट यह भी है कि Negative Geotropism, इसके बारे में आपने शायद ही सुना हो. जी दरअसल यह थ्योरी बताती है कि कुछ पेड़ ऐसे होते हैं जो सूरज की तरफ बढ़ते हैं (सूरजमुखी भी इसी का उदाहरण है). इसी लिस्ट में शामिल है केले के पेड़, इसकी प्रवृत्ति भी यही है.

केला बाद में ऊपर की तरफ बढ़ने लगता है और इसी के चलते इसका आकार टेढ़ा हो जाता है. वहीँ बॉटनिकल हिस्ट्री को माने तो, केले के पेड़ सबसे पहले रेनफॉरेस्ट के सेंटर में पाए गए थे. आप सभी जानते ही होंगे कि रेनफॉरेस्ट में सूरज की रोशनी बहुत कम पहुंचती है. ऐसे में केले के पेड़ों ने उस तरह से ग्रो करना सीख लिया था. इसके चलते उन्हें सनलाइट मिलती तो वह सूरज की तरफ बढ़ने लगते. 

सपने में गधे दिखे तो क्या है लॉजिक, जानिए यहाँ

यहाँ आग लगाकर करते हैं मरीजों का इलाज, जानिए लॉजिक?

सावन: आखिर क्यों कहते हैं शिव जी को नीलकंठ

 

You may be also interested

1