Trending Topics

आखिर क्यों काला कोट पहनते हैं वकील

Historical background in wearing Black Robes by Advocates

आप सभी ने आज तक कई वकीलों को काला कोट पहने हुए देखा होगा लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों? अगर सोचा है और आप इसका जवाब नहीं जानते हैं तो आज हम आपको बताते हैं कि आखिर ऐसा क्यों होता है। 

आखिर क्यों काला कोट पहने रहते हैं वकील

कहते हैं वकीलों के काला कोट पहनने की परंपरा इंग्‍लैंड से शुरू हुई थी। जी दरसल साल 1865 में इंग्लैड के शाही परिवार ने किंग्‍स चार्ल्‍स द्वितीय के निधन पर कोर्ट को ब्‍लैक पहनने का आदेश दिया था, उसी के बाद कोर्ट में ब्‍लैक कोट पहनने का चलन शुरू हो गया। यह भी कहा जाता है कि आज भी भारतीय न्‍यायपालिका अंग्रेजों के सिस्‍टम से ही चलती है इस वजह से यहां कोर्ट में वकील काले कोट ही पहनते है। वहीँ यह भी कहा जाता है कि भारत में साल 1961 में वकीलों के लिए काला कोट अनिवार्य कर दिया गया था।

उस समय काला कोट अनुशासन आत्मविश्वास का प्रतीक माना जाता है। आप सभी को बता दें कि काले रंग को ताकत और अधिकार का प्रतीक माना जाता है। इसी के साथ काला रंग दृष्ठिहीनता का प्रतीक माना जाता है। आप सभी जानते ही होंगे कि कानून अंधा होता है, क्योंकि दृष्टिहीन व्यक्ति किसी के साथ पक्षपात नहीं करता। ऐसे में काले कोट पहनने का मतलब है कि वकील बिना पक्षपात किसी अपना केस लड़े।

पानी में रहने से क्यों सिकुड़ जाती है त्वचा, जानिए राज

क्या आपको पता है इस इमोजी का सली मतलब

आखिर क्यों जन्मदिन पर बुझाई जाती है मोमबत्ती?

 

You may be also interested

Recent Stories

1