Trending Topics

यहाँ बना हुआ है किताब घर, गरीब बच्चों को मिलती है मदद

Bhopal Municipal Corporation kitab ghar

हम सभी पुरानी किताबें रद्दी में बेच देते हैं. वैसे कभी-कभी कुछ लोग अपनी इन किताबों को किसी ज़रूरतमंद को दे देते हैं जिससे उनका भविष्य सुधर जाए है. ऐसा ही कुछ किया भोपाल नगर निगम ने. जी दरअसल भोपाल नगर निगम ने किताब घर नाम की एक योजना की शुरुआत की थी जिसका लाभ आज तक लोग उठा रहे हैं. यह योजना आज से 2 साल पहले शुरू की गई थी. इस योजना का नाम किताब घर है जिसकी शुरुआत साल 2019 में की थी. वहीं भोपाल के लोग अब तक यहां पर लाखों बुक्स और मैग्ज़ीन्स दान कर चुके हैं. यहाँ इन सभी को ऐसे परिवार के बच्चों को दिया जाता है जो किताबें ख़रीदने अक्षम हैं. वहीं जो ख़राब कॉपी/किताब आती है उसे यहां पर रिसाइकल करने के लिए भी भेजा जाता है. 

भोपाल के अतिरिक्त नगर आयुक्त एम.पी. सिंह का कहना है कि, इसकी शुरुआत स्वच्छ भारत अभियान के तहत ही की गई थी ताकि बेकार कॉपी-किताबों से होने वाले कचरे से निपटा जा सके.

इसके लिए BMC ने www.thekabadiwala.com के साथ हाथ मिलाया, जो देश के कई शहरों में ग़रीब लोगों तक किताबें पहुंचाने का काम कर रहे है. जी दरअसल इनके कर्मचारी भोपाल के कोने-कोने से पुरानी किताब-कॉपी इकट्ठा करते हैं और भोपाल की 85 Resident Welfare Associations (RWAs) और नगर निगम के स्थानीय कार्यालयों में रखते हैं. उसके बाद यहां से कोई भी इन्हें आसानी से ले सकता है. यहां नर्सरी से 12वीं तक की किताबें ही नहीं बल्कि मैगज़ीन्स और प्रतियोगी परीक्षाओं की बुक्स भी मिलती हैं.

प्राकृतिक फ़ाइबर से साड़ियां बनाते हैं सी. सेकर

1 रुपए में इडली देने वाली अम्मा को आनंद महिंद्रा ने दिया घर

दुल्हन ने ओढ़ा इतना लम्बा घूँघट कि गिनीज बुक में दर्ज हुआ नाम

 

1