Trending Topics

माँ सरस्वती का ख़ास पर्व है बसंत पंचमी

BASANT PANCHAMI 2021

बसंत आता है तो प्रकृति से जुड़ी हर वस्‍तु का सौंदर्य निखरकर, उभरकर सामने आने लगता है। बसंत में ही मनाई जाती है बसंत पंचमी। भगवान ब्रह्मा जी ने जब अनुरोध किया था तो देवी सरस्वती मां ने वीणा बजाई थी और पूरे संसार को वाणी की प्राप्ति हुई। मां सरस्वती विद्या व ज्ञान की अधिष्ठात्री हैं। हम हमेशा यही चाहते हैं विद्या की देवी माता सरस्वती सभी को बुद्धि और ज्ञान के धन से भर दें। वैसे बसंत पंचमी एक प्रसिद्ध भारतीय पर्व है। कहा जाता है इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा सम्पूर्ण भारत में बड़े ही उल्लास के साथ होती है। 
 

बसंत पंचमी का पर्व बसंत ऋतु के आगमन के साथ मनाया जाता है। कहा जाता है यह विद्यार्थियों का भी दिन है, इस दिन विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती की पूजा आराधना भी की जाती है। आप सभी को हम यह भी बता दें बसंत ऋतु तथा पंचमी का अर्थ है- शुक्ल पक्ष का पांचवां दिन होता है. वैसे ग्रंथों को माने तो देवी सरस्वती विद्या, बुद्धि और ज्ञान की देवी हैं।

कहा जाता है माता अमित तेजस्विनी व अनंत गुणशालिनी है और उनकी पूजा-आराधना के लिए माघमास की पंचमी तिथि सबसे अहम है। वैसे बहुत कम लोग जानते हैं ऋग्वेद में सरस्वती देवी के असीम प्रभाव व महिमा का वर्णन है। जी दरअसल मां सरस्वती विद्या व ज्ञान की अधिष्ठात्री हैं।  कहा जाता है जिन लोगों की जुबान पर सरस्वती देवी का वास होता है, वे अत्यंत ही विद्वान व कुशाग्र बुद्धि होते हैं।

चॉकलेट डे: ये है दुनिया की सबसे महंगी चॉकलेट

 

1