Trending Topics

आखिर क्यों बजाते हैं मंदिर में घंटी, जानिए पीछे का लॉजिक

Why do Hindu temples have a bell

हम सभी इस बात को तो जानते ही हैं कि आमतौर पर लोग मंदिर में प्रवेश से पहले वहां लगी घंटियों को जरूर बजाते हैं और घंटी बजाने के बाद ही वे भगवान के दर्शन करते हैं. ऐसे में हिंदू धर्म में मंदिरों के बाहर घंटी लगाने की परंपरा सदियों पुरानी दिखाई पड़ती है, लेकिन क्या आपको यह पता है कि आखिर मंदिर में जाने से पहले घंटी बजाई क्यों जाती है...? जी हाँ, हम सभी मंदिर में जाने से पहले भगवान को बताने के लिए घंटी बजा देते हैं लेकिन इसके पीछे की असल वजह के बारे में कभी सोचा है. अगर हाँ, तो आइए जानते हैं इसके बारे में...

कहते हैं कि सुबह-शाम मंदिर में जब पूजा-आरती होती है तो एक विशेष लय और धुन के साथ छोटी-बड़ी घंटियां भी बजाई जाती हैं. ऐसा माना जाता है कि घंटी बजाने से मंदिर में स्थापित देवी-देवताओं की मूर्तियों में चेतना जागृत या उत्पन्न होती है और फिर इसके बाद उनकी पूजा और आराधना अधिक फलदायक और प्रभावशाली साबित होती है.

अब बात करें पुराणों की तो पुराणों के अनुसार, मंदिर में घंटी बजाने से इंसान के कई जन्मों के पापों का नाश हो जाता है. पुराण की माने तो   जब सृष्टि का प्रारंभ हुआ था, तब जो नाद (आवाज) गूंजी थी, वही आवाज घंटी बजाने पर भी निकलती है इसी कारण से कहते हैं कि घंटी उसी नाद का प्रतीक है. इतना ही नही मंदिर में या मंदिर के बाहर लगी घंटी को काल का प्रतीक भी माना जानता है. माना जाता है कि जब धरती पर प्रलय आएगा, उस समय भी घंटी बजाने जैसा ही नाद वातावरण में गूंजने लगेगा. वहीं इसके वैज्ञानिक कारण की बात करें तो जब घंटी बजाई जाती है तो वातावरण में कंपन पैदा होती है और कम्पन दू तक जाती है. इससे यह फायदा होता है कि इससे आने वाले सभी जीवाणु, विषाणु और सूक्ष्म जीव आदि नष्ट हो जाते हैं. 

पत्नी को यहाँ पति के साथ देवर को भी खुश करना पड़ता है खुश

बिहार में जन्मे थे 0 की खोज करने वाले आर्यभट्ट, जानिए बिहार से जुडी कुछ ख़ास बातें

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में शामिल हुआ भारतीयों का 'चड्डी’ शब्द

 

You may be also interested

Popular Stories

1