Trending Topics

350 साल पुराना है यह क़िला, झील में है मीठा पानी

Janjira Fort Murud Janjira Fort Maharashtra

दुनियाभर में ऐसे कई किले हैं जिनके बारे में कई रोचक किस्से हैं. ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे ही किले के बारे में बताने जा रहे हैं. यह किला महाराष्ट्र के रायगढ़ ज़िले के मुरुद गांव में स्थित है, जिसे 'मुरुद ज़ंजीरा क़िला' कहा जाता है. आपको बता दें कि इस ऐतिहासिक क़िले का निर्माण 17वीं शताब्दी के अंत में मलिक अंबर ने करवाया था, जो अहमदनगर के सुल्तान के दरबार में मंत्री था. ये क़िला पिछले 350 सालों से अरब सागर की लहरों के बीच मज़बूती के साथ खड़ा हुआ है और मुंबई से क़रीब 165 किलोमीटर दूर अरब सागर में स्थित इस ऐतिहासिक क़िले का नाम 'मुरुद ज़ंजीरा' कोंकणी और अरेबिक के दो शब्दों से मिलकर बना है. 
 

आपको बता दें कि मुरुद मराठी के शब्द मोरोद से बना है और इस क़िले को कोई जीत नहीं पाया था. आपको बता दें कि समुद्र तल से 90 फ़ीट की ऊंचाई पर बने इस क़िले की खासियत यह है कि ये अरब सागर के बीचों बीच बना हुआ है. आपको बता दें कि इस क़िले में मीठे पानी की एक झील भी है जो आजतक रहस्य है.

यह क़िला भारत के पश्चिमी तट का एक मात्र ऐसा क़िला है, जो कभी भी जीता नहीं जा सका. लेकिन ब्रिटिश से लेकर पुर्तगाली, मुगल, शिवाजी महाराज, कान्होजी आंग्रे, चिम्माजी अप्पा और संभाजी महाराज ने इस क़िले को जीतने का काफी प्रयास किया, लेकिन इनमें से कोई भी सफ़ल नहीं हो सका. ऐतिहासिक क़िले की ख़ास बात ये भी है कि इसका दरवाजा दीवारों की आड़ में बनाया गया है, जो क़िले से कुछ मीटर दूर जाने पर दीवारों के कारण दिखाई देना बंद हो जाता है. इसी वजह से दुश्मन इस क़िले के पास आने के बावजूद क़िले में नहीं जा पाते थे.

इस वजह से द्रोपदी के चीरहरण के दौरान चुप थे भीष्म पितामह

क्या आप जानते हैं क्यों आते हैं आँखों से आंसू

इस वजह से मनाते हैं महाशिवरात्रि

 

You may be also interested

Recent Stories

1