Trending Topics

रोज़मर्रा की ज़िन्दगी के अनकहे सवाल

logic behind railway track and air condition

हमारे मन में अक्सर कई सवाल ऐसे आते है जिनका जवाब ढूंढ पाना काफी मुश्किल होता है. बहुत समय तक तो हम उन सवालों के पीछे अपना दिमाग खाली करते हैं, फिर कुछ भी हासिल न होने के बाद उसे छोड़ देते हैं. ऐसे ही कुछ एक दो सवाल हैं, जो हमारे पास आये हैं, आइये जानते हैं उन सवालों के पीछे का विज्ञान.

एयर कंडीशनर से पानी क्यों निकलता है?

एयर कंडीशनर के चलने से उसमे बनने वाली गैस उसमे लगे पाइपों से गुज़रती है और उन पाईपों के ऊपर पानी की बूँदें जमा हो जाती है. यही बूँदें बाहर के गर्म वातावरण के संपर्क में आकर पानी में बदल जाती हैं.

सवाल यह है कि एयर कंडीशनर से पानी कैसे निकलता है? आपने देखा होगा, जब हम किसी गिलास में ठंडा पानी भरकर रख देते हैं तो गिलास के ऊपर पानी की छोटी-छोटी बूँदें जमा हो जाती हैं.

कुछ समय के बाद ये बूँदें पानी के रूप में गिलास के नीचे इकठ्ठा होने लगती हैं. ठीक इसी प्रकार पानी भी एयर कंडीशनर से बाहर निकलता है.

ट्रैन की पटरियों के आसपास कंकड़ क्यों डालते हैं?

ट्रैन बहुत तेज़ी से चलती है, जिसके कारण पटरियों में वाइब्रेशन (कंपन) होता है. वाइब्रेशन के कारण पटरियां इधर-उधर न हिलें, इसके लिए रेल की पटरियों के आसपास कंकड़ डाले जाते हैं.

You may be also interested

Recent Stories

1