Trending Topics

OMG! इस मंदिर में चढ़ाई जाती है चप्पल की माला

Interesting and Unique temple goddess is offered chappals

हिन्दू धर्म की मान्यताओं के चलते कई मंदिर हैं जहाँ अलग-अलग रीती रिवाजों से पूजा की जाती है. अब आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ चढ़ावे में प्रसाद नहीं, बल्कि चप्पलों की माला चढ़ाई जाती है. जी दरअसल हम बात कर रहे हैं कनार्टक के गुलबर्गा ज़िले में स्थित 'लकम्‍मा देवी' प्राचीन मंदिर की. कहा जाता है इस मंदिर में हर साल एक मेला लगता है. इस मेले के दौरान ही यहाँ दूर-दराज़ के गांवों से लोग आते हैं और माता को चप्पलों की माला चढ़ाते हैं. आप सभी को बता दें कि इस फ़ेस्टिवल में मुख्‍य तौर पर गोला (बी) नामक गांव के लोग बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लेते हैं और इसे 'फुटवियर फ़ेस्टिवल' भी कहा जाता है.

इस मेले में जिन भक्तों के पैरों और घुटनों में दर्द रहता है वो यहां बड़ी संख्या में शामिल होते हैं और चप्पलों की माला चढ़ाते हैं. कहते हैं कि ऐसा करने से माता उनके इस दर्द को हमेशा के लिए दूर कर देती हैं.

वैसे इस मंदिर में आने वाले हर भक्त की मन्नत भी पूरी होती है और इस बात का खुलासा वही भक्त करते हैं जो यहाँ से मन्नत मांगकर जाते है. इस मंदिर की पुरानी मान्यता है कि अगर लकम्‍मा देवी को चप्पल चढ़ाई जाए तो वो इससे प्रसन्न होती हैं और बुरी शक्तियों से लोगों की रक्षा करती हैं. कहते हैं माता भक्तों की चढ़ाई गई चप्पलों को पहनकर रात में घूमती हैं और उनकी रक्षा करती हैं. 

प्रेग्नेंट होने पर महिला को निकाला नौकरी से और अब कंपनी दे रही 14 लाख रुपए

17 मिनट में शादी कर दूल्हे ने दहेज के रूप में मांगी अनोखी चीज

एक रात में लिखी गई थी यह शैतानी किताब, खतरनाक है रहस्य

 

1