Trending Topics

अगर चलती हुई ट्रेन का ड्राइवर सो जाए तो क्या होगा? जानिए जवाब

What will happen if the driver falls asleep on the moving train

आप सभी ने सोचा है कि अगर ट्रैन चलाते-चलाते ड्राइवर सो जाए तो क्या होगा..? वैसे अगर सोचा है और आपको नहीं पता तो आज हम आपको बताते हैं. जी दरअसल अगर चलती हुई ट्रेन का लोको पायलट लगातार 1 मिनट तक संचालन से संबंधित गतिविधियों जैसे हॉर्न बजाना, ब्रेक मारना, स्पीड बढ़ाना या घटाना न करे, तो ऐसे में ट्रेन की ये डिवाइस' तुरंत एक्टिव हो जाती है और ड्राइवर को ऑडियो मैसेज के माध्यम से संकेत दे कर सावधान कराती है. जी हाँ, वहीँ इस दौरान लोको पायलट को इस ऑडियो मैसेज का जवाब देकर ये कन्फर्म करना होता है कि वो सोया नहीं है, बल्कि जगा हुआ है. 

यह सब होने के बाद भी अगर लोको पायलट कोई एक्शन नहीं लेता तो इस डिवाइस द्वारा ट्रेन में ऑटोमेटिक इमरजेंसी ब्रेकिंग लगना शुरू हो जाता है. इस बीच ट्रेन क़रीब 1 या 2 किलोमीटर दूर जाकर ख़ुद ही रुक जाती है. जी दरअसल यह डिवाइस रेल दुर्घटना को रोकने में बेहद कारगर है. आप सभी को बता दें कि भारतीय रेलवे में लोको पायलट (ड्राइवर) के सो जाने के कारण रेल दुर्घटना के मामले कम ही सामने आते हैं, क्योंकि ट्रेन में लोको पायलट (ड्राइवर) की अनुपस्थिति में असिस्टेंट लोको पायलट ट्रेन का संचालन करने के लिए मौजूद रहता है. वहीँ रात के दौरान जिस ड्राइवर की ड्यूटी होती है उसे पर्याप्त नींद लेने की सलाह दी जाती है.  

क्या आप जानते हैं मैगी का इतिहास?

आखिर क्यों होते हैं बादल सफेद और नीली, जानते हैं आप?

इस ट्रेन में रेलवे लगाने जा रहा है हवाई जहाज वाला बायो टॉयलेट, पटरियों पर नहीं गिरेगी गंदगी

 

1