Trending Topics

इस वजह से भगवान गणेश की पूजा में नहीं चढ़ाई जाती तुलसी

Why tulsi is not offered to lord ganesh

दुनियाभर में कई बातें हैं जो रहस्य से भरी हुईं हैं फिर वह इंसानो से जुडी हो या भगवान से. ऐसे में कहते हैं कि भगवान गणेश के पूजन में तुलसी का प्रयोग वर्जित है लेकिन क्यों यह बात बहुत कम लोग जानते हैं. जी हाँ, तो आई आज हम आपको बताते हैं कि आखिर क्यों है गणपति पूजन में तुलसी पत्र का अर्पण मना. जी दरअसल इस बारे में एक पौराणिक कथा प्रचलित है जो आज हम आपको बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं.

कथा

एक बार श्री गणेश गंगा किनारे तप कर रहे थे. इसी कालावधि में धर्मात्मज की नवयौवना कन्या तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर्थयात्रा पर प्रस्थान किया. देवी तुलसी सभी तीर्थस्थलों का भ्रमण करते हुए गंगा के तट पर पंहुची. गंगा तट पर देवी तुलसी ने युवा तरुण गणेशजी को देखा, जो तपस्या में विलीन थे. गणेशजी रत्नजटित सिंहासन पर विराजमान थे. उनके समस्त अंगों पर चंदन लगा हुआ था. उनके गले में पारिजात पुष्पों के साथ स्वर्णमणि रत्नों के अनेक हार पड़े थे. उनके कमर में अत्यंत कोमल रेशम का पीतांबर लिपटा हुआ था. तुलसी श्री गणेश के रूप पर मोहित हो गईं और उनके मन में गणेश से विवाह करने की इच्छा जाग्रत हुई. तुलसी ने विवाह की इच्छा से उनका ध्यान भंग किया.

तब भगवान श्री गणेश ने तुलसी द्वारा तप भंग करने को अशुभ बताया और तुलसी की मंशा जानकर स्वयं को ब्रह्मचारी बताकर उसके विवाह प्रस्ताव को नकार दिया. श्री गणेश द्वारा अपने विवाह प्रस्ताव को अस्वीकार कर देने से देवी तुलसी बहुत दुखी हुईं और आवेश में आकर उन्होंने श्री गणेश के दो विवाह होने का शाप दे दिया. इस पर श्री गणेश ने भी तुलसी को शाप दे दिया कि तुम्हारा विवाह एक असुर से होगा. एक राक्षस की पत्नी होने का शाप सुनकर तुलसी ने श्री गणेश से माफी मांगी.

तब श्री गणेश ने तुलसी से कहा कि तुम्हारा विवाह शंखचूर राक्षस से होगा, किंतु फिर तुम भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण को प्रिय होने के साथ ही कलयुग में जगत के लिए जीवन और मोक्ष देने वाली होंगी, पर मेरी पूजा में तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाएगा. तबसे ही भगवान गणेशजी की पूजा में तुलसी वर्जित मानी जाती है.

हनुमान जयंती : घोर तप और त्याग के बाद हुआ था भगवान हनुमान का जन्म

आखिर क्यों हरी और भूरी बोतल में रखते हैं बियर

आज है पृथ्वी दिवस, गूगल ने डूडल बनाकर दी शुभकामना

 

Recent Stories

1