Trending Topics

कभी दिल्ली की शानो-शौक़त की पहचान थी 'छुन्नामल हवेली', आज है वीरान

Chunnamal Haveli used to be the hallmark of delhi

दिल्ली की मशहूर 'चांदनी चौक' मार्केट के बारे में आपने पढ़ा और सुना होगा. इसी के साथ यहाँ 'छुन्नामल हवेली' भी है जो अगर आप गए होंगे तो आपने ज़रूर देखी होगी. जी दरअसल यह हवेली 'चांदनी चौक' मार्केट की मुख्य सड़क पर स्थित है और किसी ज़माने में दिल्ली शहर की शानो-शौकत की पहचान थी. अब आज के समय में ये हवेली दिल्ली आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है. जी दरअसल दिल्ली के चांदनी चौक में स्थित 'छुन्नामल हवेली' को सन 1848 में लाला राय छुन्नामल ने बनवाया था. कहा जाता है छुन्नामल ब्रिटिश भारत के पहले म्युनिसिपल कमिश्नर हुआ करते थे. 

उस दौर में वह दिल्ली शहर के पहले ऐसे व्यक्ति थे, जिनके पास टेलीफ़ोन और गाड़ी हुआ करती थी. अब आज के समय में छुन्नामल की 10वीं पीढ़ी उनकी इस हवेली की देखभाल कर रही है. एक समय था जब इस हवेली में 'छुन्नामल परिवार' के 30 सदस्य रहते थे लेकिन अब ज़्यादातर फ़ैमिली मेंबर्स ने हवेली के अपने हिस्सों को बंद कर दिया है. कहा जाता है आज छुन्नामल के वंशज या तो विदेशों में रहते हैं या फिर शहर के दूसरे इलाक़ों में शिफ्ट हो गए हैं. आज के समय में इस हवेली का अधिकांश स्वामित्व छुन्नामल के वंशज 'प्रसाद और मोहन फ़ैमिली' के पास है.

यह दोनों ही इस हवेली की देखरेख करते हैं. हवेली बेचने के सवाल पर सुनील मोहन ने कहा था, ''मैं ऐसा नहीं करना चाहता, मैं इसकी देखभाल कर सकता हूं जिसमें मेरे ख़ुद के पैसे लग रहे हैं. मैं खुद को दिल्ली के किसी भी दूसरे हिस्से में नहीं देख सकता. मैं इसी हवेली में रहना चाहता हूं जहां मेरे पूर्वज रहते थे और उन्होंने यहीं इतिहास के बहुत सारी चीज़ें देखी हैं.'' आपको बता दें कि इस हवेली में एक बेहद ख़ूबसूरत आईना भी लगाया गया है, जिसे बेल्जियम का बताया जाता है. यह हवेली आज वीरान है लेकिन देखने के बड़ी खूबसूरत है.

OMG! इस मंदिर में चढ़ाई जाती है चप्पल की माला

प्रेग्नेंसी के दौरान मां के साथ पिता में भी दिखते हैं ये लक्षण

इस गाँव में हिन्दू मुस्लिम सभी बोलते हैं संस्कृत

 

1