Trending Topics

आखिर क्यों होते हैं दो रंग के कैप्सूल

WHY DO CAPSULES HAVE TWO DIFFERENT COLORS

आप सभी ने दवाइयां तो खाई ही होंगी और उन्ही में शामिल होते हैं कैप्सूल. कैप्सूल हम सभी ने कभी ना कभी खाये ही हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये कैप्सूल दो रंग के क्यों होते हैं? अगर सोचा है और आपको इसका जवाब नहीं पता तो हम आपको बताते हैं इसका जवाब.

जी दरअसल जो कैप्सूल के दो हिस्से होते हैं, वो सेम साइज़ के नहीं होते हैं. आप ध्यान से देख सकते हैं तभी आपको मालूम पड़ेगा कि एक कैप्सूल का भाग दूसरे वाले से छोटा है. जी दरअसल इन दोनों ही पार्ट को जोड़कर कैप्सूल तैयार किया जाता है और बड़े वाले हिस्से में दवा स्टोर की जाती है, जिसे कंटेनर बोलते हैं और दूसरा हिस्सा कैप कहलाता है, जिससे कैप्सूल के मुंह को बंद किया जाता है.

आपको बता दें कि इन कैप्सूल में दवा भरने का काम चाहें मशीन करे या फिर वर्कर, अलग-अलग साइज़ की पहचान करनी पड़ती है. यही कारण है कि दोनों का रंग अलग होता है. जी दरअसल, दवा भरने के लिए बड़ा हिस्सा जो कि कंटेनर होता है, उसको नीचे रखा जाता है. ताकि उसमें दवा स्टोर की जा सके. वही दूसरे यानी कैप कहलाने वाले छोटे हिस्से को ऊपर से कैप्सूल का मुंह बंद करने के लिए लगाना होता है. ऐसे में पहचान करने के लिए दोनों को अलग रंग दिया जाता है.

130 साल बाद दिखी उड़ने वाली गिलहरी, जानिए क्यों हैं खास?

5 महीने के इस बच्चे को लगाया गया दुनिया का सबसे महंगा इंजेक्शन, जानें क्यों?

क्या आप जानते हैं मैगी का इतिहास?

 

You may be also interested

1